Bihar PCS SYLLABUS- बिहार पीसीएस प्रारंभिक और मुख्य परीक्षा पाठ्यक्रम

Bihar PCS SYLLABUS- बिहार पीसीएस प्रारंभिक और मुख्य परीक्षा पाठ्यक्रम


Bihar PCS SYLLABUS- प्रारंभिक और मुख्य परीक्षा पाठ्यक्रम
प्रारंभिक परीक्षा

सामान्य अध्ययन

  1. सामान्य विज्ञान.
    • सामान्य विज्ञान के प्रश्नों में विज्ञान की सामान्य विवेचना और समझ को शामिल किया जाएगा, जिसमें रोज़मर्रा के अवलोकन और अनुभव के मामले शामिल हैं, जैसा कि एक शिक्षित व्यक्ति से उम्मीद की जा सकती है, जिसने किसी वैज्ञानिक विषय का विशेष अध्ययन नहीं किया है।
  2. राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय महत्त्व की समसामयिक घटनाएँ।
  3. भारत का इतिहास और बिहार के इतिहास की मुख्य विशेषताएँ।
    • इतिहास में, विषय के सामाजिक, आर्थिक और राजनीतिक पहलुओं में व्यापक सामान्य समझ पर ज़ोर दिया जाएगा।
    • उम्मीदवारों से बिहार के इतिहास के व्यापक पहलुओं से परिचित होने की आशा की जाती है।
  4. बिहार का सामान्य भूगोल और भौगोलिक विभाजन और इसकी प्रमुख नदी प्रणालियाँ।
    • भूगोल में भारत और बिहार के भूगोल पर ज़ोर दिया जाएगा।
    • भारत और बिहार के भूगोल पर प्रश्न भारतीय कृषि और प्राकृतिक संसाधनों की मुख्य विशेषताओं सहित देश के भौतिक, सामाजिक तथा आर्थिक भूगोल से संबंधित होंगे।
  5. स्वतंत्रता के बाद की अवधि में भारतीय राजनीति और अर्थव्यवस्था तथा बिहार की अर्थव्यवस्था में बड़े बदलाव।
    • भारतीय राजनीति और अर्थव्यवस्था के प्रश्न भारत तथा बिहार में देश की राजनीतिक व्यवस्था, पंचायती राज, सामुदायिक विकास एवं योजना पर ज्ञान का परीक्षण करेंगे।
  6. भारतीय राष्ट्रीय आंदोलन और इसमें बिहार द्वारा निभाई गई भूमिका तथा सामान्य मानसिक क्षमता पर भी प्रश्न।
    • भारतीय राष्ट्रीय आंदोलन पर प्रश्न उन्नीसवीं सदी के पुनरुत्थान की प्रकृति और चरित्र से संबंधित होगा, राष्ट्रवाद की वृद्धि तथा स्वतंत्रता की प्राप्ति एवं उम्मीदवारों से भारत के स्वतंत्रता आंदोलन में बिहार की भूमिका पर सवालों के जवाब देने की आशा की जाएगी।
मुख्य परीक्षा

1- सामान्य हिन्दी

  • इस पत्र में प्रश्न बिहार विद्यालय परीक्षा समिति के माध्यमिक (सेकेण्डरी) स्तर के होंगे। इस परीक्षा में सरल हिन्दी में अपने भावों को स्पष्टत: एवं शुद्ध-शुद्ध रूप में व्यक्त करने की क्षमता और सहज बोध शक्ति की जाँच समझी जायेगी।
  • अंकों का वितरण निम्न प्रकार होगा–
  1. निबंध – 30 अंक
  2. व्याकरण – 30 अंक
  3. वाक्य विन्यास – 25 अंक
  4. संक्षेपण – 15 अंक

2. सामान्य अध्ययन पेपर- I

  1. भारत का आधुनिक इतिहास और भारतीय संस्कृति।
  2. राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय महत्व की समसामयिक घटनाएँ।
  3. सांख्यिकीय विश्लेषण, रेखांकन और आरेख।
    • पेपर- I में, भारत का आधुनिक इतिहास और भारतीय संस्कृति उन्नीसवीं शताब्दी के मध्य से देश के व्यापक इतिहास (बिहार के विशेष संदर्भ के साथ) को कवर करेगा।
    • बिहार के आधुनिक इतिहास में पश्चिमी शिक्षा (तकनीकी शिक्षा सहित) के परिचय और विस्तार पर प्रश्न शामिल होंगे।
    • इसमें भारत के स्वतंत्रता संग्राम में बिहार की भूमिका पर भी सवाल होंगे।
    • प्रश्न संथाल विद्रोह, बिहार में वर्ष 1857, बिरसा आंदोलन, चंपारण सत्याग्रह और भारत छोड़ो आंदोलन 1942 से संबंधित होंगे।
    • परीक्षार्थियों से मौर्य और पाल कला तथा पटना कलम चित्रकारी की प्रमुख विशेषताओं के ज्ञान की अपेक्षा की जाएगी।
    • इसमें गांधी, टैगोर और नेहरू से संबंधित प्रश्न भी शामिल होंगे।
    • सांख्यिकीय विश्लेषण, ग्राफ और आरेख से संबंधित भाग में सांख्यिकीय, ग्राफिकल या आरेखीय रूप में प्रस्तुत जानकारी से सामान्य ज्ञान निष्कर्ष निकालने और उसमें कमियों, सीमाओं या विसंगतियों को इंगित करने के लिये उम्मीदवार की क्षमता का परीक्षण करने हेतु अभ्यास शामिल होंगे।

3. सामान्य अध्ययन पेपर- II

  1. भारतीय राजव्यवस्था
  2. भारतीय अर्थव्यवस्था और भारत का भूगोल
  3. भारत के विकास में विज्ञान और प्रौद्योगिकी की भूमिका और प्रभाव।
    • पेपर II में, भारतीय राजनीति से संबंधित भाग में बिहार सहित भारत में राजनीतिक व्यवस्था पर प्रश्न शामिल होंगे।
    • भारतीय अर्थव्यवस्था और भारत के भूगोल से संबंधित भाग में, भारत में नियोजन तथा भारत एवं बिहार के भौतिक, आर्थिक व सामाजिक भूगोल पर प्रश्न पूछे जाएंगे।
    • तीसरे भाग में भारत के विकास में विज्ञान और प्रौद्योगिकी की भूमिका तथा प्रभाव से संबंधित प्रश्न पूछे जाएंगे, भारत में विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी की भूमिका व प्रभाव के बारे में उम्मीदवार की जागरूकता का परीक्षण करने के लिये और बिहार में लागू पहलू पर ज़ोर दिया जाएगा।


Share this:

Leave a Reply

Your email address will not be published.